किफायती और भूकंप रोधी मकान का निर्माण प्रशिक्षण की शुरुआत


शुक्रवार को प्रखंड कार्यालय सभाकक्ष में
बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के तत्वावधान में राजमिस्त्रियों के प्रशिक्षण शुरू किया गया।
दो मई तक चलने वाले इस प्रशिक्षण का उद्घाटन एसडीओ अनीश अख्तर के साथ डीसीएलआर राहुल कुमार,बीडीओ जफर इमाम एवं सीओ स्नेह लता कुमारी ने संयुक्त रूप से किया ।एसडीओ ने प्रशिक्षण के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। एसडीओ ने कहा कि सीमेंट का बोरा खोलने से पहले बारीकी से उस पर डेट जरूर देखें। ये सब कुछ ऐसी बारीक बातें हैं, जिन पर ध्यान देना बहुत ही जरूरी होता है। प्रशिक्षण की देखरेख कर रही सीओ स्नेह लता कुमारी ने कहा कि प्रखंड के 30 राजमिस्त्रियों का चयन कर उन्हें प्रशिक्षण दिया जा रहा है।प्रशिक्षण के दौरान तकनीकी प्रशिक्षण के साथ साथ व्यवहारिक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। व्यवहारिक प्रशिक्षण के लिए प्रखंड कार्यालय के पास खाली जगह को चिन्हित किया गया है, जहां प्रशिक्षण में शामिल राजमिस्त्री भूकंप रोधी भवन के निर्माण विधि को सीख व देख सकेंगे। प्रशिक्षण में शामिल सभी राज्य में स्त्रियों को प्रशिक्षण की समाप्ति के अंतिम दिन यानी दो मई को सात सौ रुपए प्रतिदिन की दर से 49 सौ रुपए का चेक एवं प्रमाण पत्र भुगतान किया जाएगा।लेकिन यह उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जो रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर अंतिम दिन तक प्रशिक्षण में शामिल होंगे। प्रशिक्षण प्रभारी इंजीनियर धीरज कुमार ने प्रशिक्षण के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह प्रशिक्षण काफी लाभकारी सिद्ध होगा।समय के साथ तकनीक में परिवर्तन आ रहा है। राजमिस्त्री कहीं से ट्रेनिंग लेकर यह कार्य नहीं कर रहे हैं, बल्कि उन्होंने कहीं किसी दूसरे राजमिस्त्री से सीखा है। इसलिए उन्हें प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है ,ताकि वे किफायती एवं भूकंप रोधी भवन का निर्माण कर सकें। प्रशिक्षण के दौरान पुराने भवनों को भी भूकंप रोधी बनाने के तरीके बताए जाएंगे। प्रशिक्षण के मुख्य पर्यवेक्षक आशीष रंजन ने कहा कि पूरे प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न प्रकार की जानकारियां प्रदान की जाएगी।मास्टर ट्रेनर काजमी वशिट द्वारा भी विभिन्न पहलुओं से संबंधित जानकारी दी गई।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.