आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने ओपीडी किया बाधित, हड़ताल रहा जारी


आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता एवं कुरियर के अनिश्चितकालीन हड़ताल के आठवें दिन आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ओपीडी सेवा को ठप कर दिया। आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने मुख्य द्वार पर खड़े होकर अपने मांगों के समर्थन में नारेबाजी की। ओपीडी कक्ष में ताला लगा दिया।बिहार चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के तत्वावधान में विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल के आठवें दिन हंगामेदार रहा।आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा तालाबंदी किए जाने के बाद अस्पताल परिसर में सन्नाटा सा पसरा दिखा
मरीज आ रहे थे ,लेकिन बिना इलाज कराये ही वापस लौटते दिखे। आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता ओपीडी में तालाबंदी के बाद मुख्य द्वार के पास धरना पर बैठे रहे। इनके समर्थन में भाकपा माले के नेता एवं पूर्व मुख्य पार्षद धर्मेंद्र कुमार भी पहुंच गए और उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इनकी मांगों के समर्थन में है।
एक तरफ जहां दोपहर तक पीएचसी के ओपीडी में ताला लटका दिखा, वहीं दूसरी तरफ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा.यतींद्र प्रसाद ने कहा कि ओपीडी आंशिक रूप से प्रभावित हुआ है।आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को समझा -बुझा कर ओपीडी सेवा चालू करा दिया गया लेकिन उसके बाद मरीज ही अस्पताल में नहीं पहुंचे। उनकी मांगों के संदर्भ में वरीय पदाधिकारियों को अवगत कराया जाएगा उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय स्तर के संबंध में मौखिक आरोप आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा लगाये गए हैं ,लिखित शिकायत मिलने पर जांच कराई जाएगी।प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस समय आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने ओपीडी सेवा को ठप कराया, उस समय तक रजिस्ट्रेशन काउंटर से 27 मरीजों की पर्ची कट चुकी थी ।करीब एक दर्जन मरीजों का इलाज भी किया गया था, उसके बाद पूर्वाहन करीब 11:15 बजे आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता अपनी मांगों के समर्थन में नारा लगाते हुए पहुंचे और ओपीडी कक्ष में तालाबंदी कर दी ।वहां मौजूद चिकित्सक डॉ उपेंद्र कुमार सिंह ने आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, लेकिन इन लोगों ने कुछ नहीं सुना ।इनका कहना था कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती है ,उनका आंदोलन जारी रहेगा. आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के समर्थन में बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के अनुमंडल शाखा के महामंत्री भी उतर आए। आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता संघ के प्रखंड अध्यक्ष कविता कुमारी सचिव रेखा कुमारी समेत आशा अन्य आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने कहा कि न्यूनतम मानदेय 18 हजार रुपया करने, सरकारी सेवक घोषित करने समेत विभिन्न मांगों को लेकर वे लोग अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं।एक दिसंबर से ही उनका अनिश्चितकालीन हड़ताल चल रहा है, लेकिन अभी तक उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया है।अपने आंदोलन के अंतर्गत उन लोगों ने शनिवार को ओपीडी में तालाबंदी करते हुए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी का घेराव किया है ।इनका कहना था कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती है,तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा ।आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने स्थानीय स्तर भी कई आरोप लगाये.इन लोगों द्वारा आरोप लगाया गया कि उन लोगों को समय से मानदेय का भुगतान भी नहीं किया जाता है ।इन लोगों ने अस्पताल में घुसकर कथित रुप से घूसखोरी व्याप्त होने का आरोप लगाते हुए कहा कि मानदेय भेजने के नाम पर कथित रूप से दो सौ रुपये की मांग की जाती है।इस मौके पर आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता संगीता कुमारी, संजू कुमारी, श्रृंखला, करुणा ,सुषमा ,कृष्णमणि, रीता समेत अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.