मुख्य पार्षद एवं पूर्व  नगर पालिका अध्यक्ष को किया गया सम्मानित

सोनी देवी को नगर परिषद दाउदनगर की पहली महिला मुख्य पार्षद बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।दाउदनगर को नगर परिषद बनने के बाद सोनी देवी मुख्य पार्षद निर्वाचित हुई हैं ,वहीं उनके ससुर एवं पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष यमुना प्रसाद स्वर्णकार ने अपने कार्यकाल में शहर के विकास को नई दिशा दी थी ।उनके कार्यकाल को आज भी याद रखा जाता है।उक्त बातें स्थानीय लक्ष्मी भवन परिसर में स्वर्णकार आभूषण व्यवसायी संघ द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में वक्ताओं द्वारा कही गई।बुधवार को संघ के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद सर्राफ की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में नगर परिषद दाउदनगर की मुख्य पार्षद सोनी देवी एवं पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष यमुना प्रसाद स्वर्णकार को सम्मानित किया गया। कहा गया कि
इन दोनों को सम्मानित करने का निर्णय संघ द्वारा लिया गया है।समारोह की शुरुआत संत नरहरी दास की तस्वीर पर माल्यार्पण कर की गई। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य पार्षद एवं अन्य अतिथियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस समारोह का संचालन उपेंद्र कश्यप ने किया ।कला प्रभा संगम के बच्चों द्वारा स्वागतगान व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गयी।संस्था के सचिव गोविंदा राज के नेतृत्व में जब नन्ही बच्ची ने नृत्य प्रस्तुत किया तो लोग दांतो तले उंगली दबा लिए। लक्ष्मी भवन की स्थापना में महत्वपूर्ण भागीदारी निभाने वाले समाज के लोगों को भी सम्मानित किया गया और उनके योगदान की सराहना की गई ।इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोधगया होटल एसोसिएशन के महासचिव सुदामा कुमार एवं उनकी धर्मपत्नी, अशोक कुमार वर्मा चंद्र भूषण प्रसाद बसपा के प्रदेश, सचिव अनंत प्रसाद सोनी, सिद्धेश्वर प्रसाद सोनी आदि शामिल रहे।वीरेंद्र प्रसाद ,गोपाल सोनी ,अनिल कुमार ,रामजी प्रसाद,पूर्व वार्ड पार्षद रवि रंजन स्वर्णकार समेत समाज के कई लोगों को सम्मानित किया गया।सभी का स्वागत एवं सम्मान करने में जदयू के नगर अध्यक्ष संजय प्रसाद उर्फ चुन्नू समेत अन्य सदस्यों ने भूमिका निभाई।इस मौके पर भाजपा के नगर अध्यक्ष शंभू प्रसाद सोनी समेत काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।संचालनकर्ता श्री कश्यप ने कहा कि भूतपूर्व चेयरमैन यमुना प्रसाद को मुगल शासक के चेयरमैन हम कहते थे ,इन्हें नगरपालिका के चेक काटने का भी गौरव प्राप्त है।

Leave a Reply