प्रोत्साहन राशि के लिए चक्कर काट रहे लाभुक, दिखा हंगामे का माहौल


शौचालय अनुदान राशि को ले सैकड़ों लाभुक आज भी प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं।शौचालय विहीन घरों में शौचालय निर्माण के बाद प्रोत्साहन राशि के लिए लाभुकों का भटकना पड़ रहा है।
कई ने कर्ज़ लेकर घरों में शौचालय बनवा लिया परंतु अभी तक अनुदान राशि नहीं मिल सकी है। कर्जदार कर्ज मांग रहे हैं।इस प्रखंड के पांच पंचायत ओडीएफ हो चुके हैं। कई पंचायतों के ओडीएफ होने के समय या उसके बाद प्रोत्साहन राशि को लेकर हल्का- फुल्का हल्ला हंगामा का दौर देखने को मिला था।लेकिन, गुरुवार को प्रखंड कार्यालय परिसर में प्रोत्साहन राशि के मुद्दे पर ही एक लाभुक एवं एक ग्रामीण आवास सहायक के बीच बहस का माहौल देखने को मिला ।दोनों के बीच काफी देर तक काफी बहस होती रही और देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गयी।प्रखंड के अरई निवासी रामाकांत शर्मा ने अपने पंचायत के ग्रामीण आवास सहायक पर लापरवाही बरतने एवं प्रोत्साहन राशि नहीं देने का आरोप लगाते हुए प्रखंड कार्यालय परिसर के पास चिल्ला-चिल्ला कर आरोप लगाया कि ग्रामीण आवास सहायक द्वारा प्रोत्साहन राशि नहीं भेजा जा रहा है।जियोटैग हो चुका है और वे करीब तीन महीने से प्रोत्साहन राशि के लिए चक्कर काट रहे हैं। इनका आरोप था कि ग्रामीण आवास सहायक द्वारा मोबाइल भी नहीं उठाया जाता है।वहीं, ग्रामीण आवास सहायक चंदन कुमार का कहना था कि आरोप लगाने वाले व्यक्ति की मां के नाम पर शौचालय के निर्माण का प्रोत्साहन राशि डाल दिया गया है कोई तकनीकी समस्या हो सकती है।अगले दो-चार दिनों में प्रोत्साहन राशि खाते में चली जाएगी।अब चाहे मामला जो भी हो ,लेकिन इतना तय है कि इस बहस का मुख्य बिंदु प्रोत्साहन राशि ही था। वहां मौजूद लोगों ने किसी तरह समझा बुझा कर दोनों को शांत कराया। भाजपा के दाउदनगर मंडल सुरेंद्र यादव ने पूरे प्रखंड में बने शौचालय निर्माण अभियान की जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि आमतौर पर प्रायः सभी पंचायतों से आम जनता की ऐसी शिकायतें प्राप्त हो रही हैं।

Leave a Reply