अलम्नाई कॉन्फ़्रेन्स में कई पुराने छात्र हुए सम्मानित

हिंदुस्तान मॉडर्न अकैडमी एवं मिल्लत उच्च विद्यालय के पुराने छात्रों के लिए एक विशेष कार्यक्रम विद्यालय परिवार द्वारा रखा गया। 12 नवम्बर को यह आयोजन दाउदनगर के पिराही बाग़ स्थित मिल्लत उच्च विद्यालय के प्रांगण में किया गया। इस कार्यक्रम का नाम अलम्नाई कॉन्फ़्रेन्स दिया गया। दोनों विद्यालयों के कई पुराने छात्र जो फ़िलहाल दाउदनगर में मौजूद थे शामिल हुए। इसके साथ ही ख़ास कर इस कॉन्फ़्रेन्स में शामिल होने के लिए दिल्ली से अतुल उपाध्याय एवं कोलकाता से शमशाद अख़्तर पहुँचे। अतुल उपाध्याय कम्प्यूटर एवं टेक्नॉलजी के अच्छे जानकार हैं और 15 से अधिक देशों में अपनी कम्पनी को रेप्रेज़ेंट कर चुके हैं। वहीं शमशाद अख़्तर एक अच्छे व्यवसायी हैं। तक़रीबन 45 छात्रों को उनके बेहतर कार्य के लिए सम्मानित किया गया। संस्था के छात्रों द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य किया जा रहा है। एंजिनीरिंग, टेक्नॉलोजी, मेडिकल, बैज्ञानिक, शिक्षा, व्यवसाय इत्यादि कई क्षेत्रों में बेहतर कार्य का नमूना पेश किया है। संस्था के निदेशक डॉक्टर महफ़ूज़ आरिफ़ इलयासी ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कि हमारा शुरू से प्रयास रहा है कि गुणवक्ता पूर्ण शिक्षा प्रदान किया जाए। शिक्षा के क्षेत्र में पैसा नहीं कमाया मगर आप सब छात्रों को देखकर अपने आप को धनवान महसूस करता हूँ, आप सब ही मेरे लिए धन हैं। कम संसाधन उपलब्ध होने के बावजूद हमारे छात्र ज़िला स्तर पर कई सारे पुरस्कार जीत कर लाए। शिक्षक मुज़फ़्फ़र इलयासी ने कहा कि आज मैं आपलोगों के बीच संस्था के शिक्षक के तौर पर नहीं बल्कि एक अलम्नाई के तौर पर हाज़िर हूँ। उन्होंने कहा कि एक समय में हिंदुस्तान मॉडर्न अकैडमी पूरे शहर में एक अलग स्तर का विद्यालय था हमें उन दिनों को याद कर प्रेरणा मिलती है। नए वर्ष की शुरुवात में हिंदुस्तान मॉडर्न अकैडमी पुनः सीबीएससी बोर्ड के अंतर्गत शुरू किया जा रहा है। चार घंटों तक चले इस कार्यक्रम में सभी छात्रों ने अपना बकतव्य रखा। उन्होंने विद्यालय प्रांगण में शिक्षा प्राप्ति के दौरान यादगार पल और ख़ूबसूरत अनुभव को सब के साथ साझा किया। ज़्यादातर छात्रों ने विद्यालय से मिले संस्कार एवं आत्मविश्वास को अपनी सफलता का राज बताया। ओ संस्कार एवं आत्मविश्वास उनके रोज़मर्रा की ज़िंदगी में काफ़ी सहायक सिद्ध होता है। कार्यक्रम का संचालन अतुल उपाध्याय एवं मुज़फ़्फ़र इलयासी ने किया। उपस्थित छात्रों के अलावा कुछ अनुपस्थित छात्रों को भी सम्मानित किया गया जिनमे मेडिकल डॉक्टर रजनीश अरुण, अनुशंधान कर्ता आशुतोष अरुण, सोफ़्टवेयर एंजिनीर सह दाउदनगर.इन के सह संस्थापक इर्शाद अहमद मुख्य रूप से शामिल हैं।

Leave a Reply