उस घर में न करें शादी जिस घर में न हो शौचालय

खुले में शौच करने व गंदगी करने से उसमें दर्जनों तरह के कीड़े,पिल्लु व जीव जन्म लेते हैं जो सैकड़ों बिमारियों को जन्म देते हैं और हमलोगों को नुकसान पहुँचाते हैं ,इसलिए लोग उस घर में अपनी बेटी की शादी नहीं करें ,जिस घर में शौचालय नहीं हो,क्योंकि जिस घर में शौचालय नहीं है उस घर का सम्मान नहीं है ।खुले में शौच करना एक सामाजिक बुराई व कुरीति तो हैं ही ,साथ हीं साथ यह एक सामाजिक अभिशाप भी है ।उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मोनिटर अरविन्दकुमार सिन्हा ने गोह के कंचन टोला स्थित आंगनवाड़ी केन्द्र संख्या 96 पर आयोजित सामुदायिक बैठक में उपस्थित महिलाओं को स्वास्थ्य ,स्वच्छता एवं मच्छरजनित ए.इ.एस.बिमारयों मलेरिया,डेंगु,चिकनगुनिया,मस्तिष्क ज्वर (दिमागी बुखार),जीका वायरस,रोटा वायरस व चाँदीपुरा वायरस से जागरूक करते हुये कही ।
बैठक में श्रीसिन्हा ने बताया कि मच्छरजनित सारी बिमारियाँ मादा (महिला)मच्छर के काटने से होती है जो काफी खतरनाक व जानलेवा होती है परन्तु उनमें से सबसे अघिक लाईलाज व जानलेवा मस्तिष्क ज्वर(दिमागी बुखार) है जो एक से पन्द्रह आयुवर्ग के बच्चों में मादा क्यूलेक्स नामक मच्छर काटने से होती है । मच्छरजनित सभी बिमारियों में तेज बुखार के लक्षण पाये जाते हैं ,इसलिए तेज बुखार एवं दिमागी बुखार के रोगियों को अतिशीध्र प्राथमिक उपचार के तौर पर ताजे पानी की पट्टी देना चाहिए और उसे निकटतम सरकारी अस्पताल भेजना चाहिए जिससे समय पर उसकी जान बचायी जा सके ।
श्रीसिन्हा ने बताया कि मच्छरजनित सहित अन्य बिमारियों से बचने के लिए लोंगों को खुले में शौच एवं जहाँ-तहाँ गंदगी नहीं करनी चाहिए । प्रत्येक दिन अपने-अपने घरों को एवं घरों के आसपास के एरिया सहित नली-नालों की साफ सफाई करनी चाहिए ।समय समय पर अपने-अपने हाथो को साबुन से साफ करना चाहिए । रात में सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए ।
बैठक में सेविका लीला देवी,ग्रामीण महिलाएँ-ललिता देवी,सोनी देवी,मालती देवी,समुद्री कुँवर,सोनमती देवी एवं डोमरी देवी सहित दर्जनों महिलाएँ मौजूद थीं ।
इसके पहले पाथ द्वारा हसपुरा प्रखंड के उच्हल बिगहा स्थित आंगनवाड़ी केन्द्र पर भी सामुदायिक बैठक आयोजित की गयी ।

One comment on “उस घर में न करें शादी जिस घर में न हो शौचालय
  1. Sarvesh says:

    It’s a real correct that we should not pollute our environment.

Leave a Reply