विकास के नाम पर देश में कॉरपोरेट लूट धड़ल्ले से जारी

संतोष अमन की रिपोर्ट:-                                        

        बिहार विधानसभा चुनाव 2015 के जनादेश को उलटते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पुराने सहयोगी भाजपा को बिहार में सत्ता हड़पने का मौका दिया है,जिस आनन फानन में उन्होंने एनडीए सरकार का गठन किया,उसे तख्तापलट और चरम राजनीतिक अवसरवाद के अलावा कुछ नहीं कहा जा सकता है।उक्त बातें भाकपा माले जिला सचिव जनार्दन प्रसाद सिंह,कार्यकारी जिला सचिव मुनारिक राम,खेग्रामस जिला सचिव राजकुमार भगत ने दस सूत्री मांगो के समर्थन में दाउदनगर प्रखंड सह अंचल कार्यालय के समक्ष आयोजित धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कही।उन्होंने कहा कि देश की 80 फीसदी आबादी फटेहाली व बदहाली से गुजर रही है।विकास के नाम पर देश में कॉरपोरेट लूट धड़ल्ले से जारी है।भाजपा का स्वच्छ भारत और नीतीश कुमार का शराबबंदी कानून आज दलित गरीबों के दमन-उत्पीड़न के नए औजार बन गये हैं।।धरना की अध्यक्षता प्रखंड सचिव मदन प्रजापति ने की।इससे पहले नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने प्रखंड सह अंचल कार्यालय के गेट पर प्रदर्शन करते हुए अपने मांगो के समर्थन में नारे लगाए।धरना के बाद डी बंदोपध्याय की रिपोर्ट सार्वजनिक करने व सभी गरीबों को एक एक एकड़ खेती योग्य व 10-10डीसमील आवास के लिए भूमि देने,खुले में शौच के नाम पर उत्पीड़न बंद करने व शौचालय निर्माण की राशि 50 हजार करने,शहरी गरीबों को भी सारी सरकारी सुविधाएं देने,पर्चाधारियों को कब्जा दीलाने,रोजगार गारंटी योजना में मशीन के उपयोग पर सख्ती से रोक लगाने व 200दिन काम एवं पांच सौ रुपया प्रतिदिन मजदूरी देने,भ्रष्टाचार पर रोक लगाने,जविप्र को चुस्त दुरुस्त बनाने समेत दस सूत्री मांगो से संबंधित ज्ञापन बीडीओ को सौंपा गया।शिष्टमंडल में टाउन सचिव बिरजू चौधरी,कामता प्रसाद,पूर्व मुख्य पार्षद धर्मेंद्र कुमार,अलकारी देवी एवं मदन प्रजापति शामिल थे। 

Leave a Reply