पोषण पुनर्वास केंद्र में होगा कुपोषित बच्चों का उपचार

संतोष अमन की रिपोर्ट:-                                 

शून्य से पांच वर्ष आयु वर्ग के कुपोषित बच्चों की पहचान कर उन्हें पोषण पुनर्वास केंद्र औरंगाबाद पहुंचाएं,जहां उन बच्चों को रखकर उन्हें उचित आहार देकर कुपोषणमुक्त बनाया जाएगा।उक्त आशय का निर्देश पीएचसी प्रभारी डा.मनोज कुमार कौशिक एवं स्वास्थ्य प्रबंधक विकास शंकर ने स्थानीय पीएचसी में आयोजित ए एन एम व आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की बैठक में दिया।बताया गया कि ऐसे बच्चों के माता पिता को आने जाने का किराया,नाश्ता,भोजन के साथ साथ पचास रुपये की दर से दैनिक भत्ता भी जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा दिए जाएंगे।प्रत्येक महीने की नौ तारीख को आयोजित होनेवाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में अधिकाधिक गर्भवती महिलाओं की उपस्थिति सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया।”मां”कार्यक्रम के तहत आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती एवं धातृ माताओं की प्रत्येक महीने बैठक कर स्तनपान के बारे में बताने का निर्देश दिया गया।स्वास्थ्य प्रबंधक ने कहा कि यदि किसी स्वास्थ्यकर्मी की लापरवाही से शिशु मृत्यु या मातृ मृत्यु होती है तो मगध प्रमंडल आयुक्त के निर्देश के आलोक में संबंधित स्वास्थ्यकर्मी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी,इसलिए अपने कर्तव्य के प्रति पूरी तरह सजग रहें और लापरवाही नहीं बरतें।इस मौके पर बीसीएम शशीकांत कुमार,डीआरयू के प्रखंड प्रबंधक नितेश कुमार,प्रखंड मूल्यांकन सहायक आलोक कुमार,लेखापाल सुनील कुमार भी मौजूद रहे।

Leave a Reply