किसी दलित को उप-मुख्यमंत्री बनाएँ, तब दलित प्रेम सच्चा- प्रमोद चंद्रवंशी

ग़ुलाम रहबर की रिपोर्ट:
सिंचाई विभाग के दाऊदनगर स्थित आईबी में जदयू के वरिष्ठ नेता प्रमोद सिंह चंद्रवंशी ने प्रेस वार्ता जारी कर सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्णय को राष्ट्रहित में बताया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिये रामनाथ कोविंद का जदयू द्वारा समर्थन करना बिलकुल सही है। महागटबंधन की घटक पार्टियों ख़ासकर राजद एवं कांग्रेस द्वारा इसका विरोध करना सही नहीं है। उन पार्टियों में राष्ट्रपति पद को लेकर जो खलबली मची है ओ बेबुनियाद है।

श्री चंद्रवंशी ने यह भी कहा कि कांग्रेस को याद रहना चाहिये कि जब जदयू एनडीए में था तो उस समय राष्ट्रपति के उम्मीदवार प्रणव मुखर्जी का जदयू ने समर्थन किया था। रामनाथ कोविंद विद्वान हैं, सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता रह चुके हैं। बिहार के राज्यपाल के रुप में इन्होंने राज्य सरकार से समंवय स्थापित कर बिहार के विकास में सहयोग किया है। दूसरी तरफ़ मीरा कुमार को लेकर दलित प्रेम पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बेवजह उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है।महागठबंधन मतों के दृष्टिकोण से कोई भी महागटबंधन का उम्मीदवार राष्ट्रपति बनने की स्थिति में नहीं है। दलित प्रेम को साथ रखकर महागटबंधन को आगामी लोकसभा की तैयारी करनी चाहिए। फिर 2023 में मीरा कुमार को राष्ट्रपति पद के लिए आगे लाना चाहिए।

श्री चंद्रवंशी ने आरोप लगाया कि राजद के लोग दलित की बात कर लोंगो को दिग्भ्रमित कर रहे हैं, अगर सचमुच में उन्हें दलित प्रेम है तो तेजस्वी यादव के स्थान पर किसी दलित को उपमुख्यमंत्री बनाकर दीखायें। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आदर्श की राजनीति कर अच्छे कार्यों का हमेशा समर्थन करते हैं। याद रहे कि केंद्र सरकार द्वारा नोटबंदी के फ़ैसले के समर्थन में नीतीश कुमार आए थे। किसानों के सवाल पर हम केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ हैं। इस मौके पर जदयू के जिला उपाध्यक्ष विनय उर्फ अभय चंद्रवंशी, तालकेश्वर चंद्रवंशी, पैक्स अध्यक्ष नवलेश यादव, पिंटु सिंह आदि प्रमुख रुप से मौजूद रहे।

Leave a Reply