मुखिया के अधिकारों में कटौती से भड़के मुखिया- 22 जून को आरपार की लड़ाई

मुखिया के अधिकारों पर कैंची चलने से नाराज़ मुखिया गण पटना में राज्य सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोलेंगे। दाऊदनगर मुखिया संघ के सदस्य एवं तरार पंचायत के मुखिया सर्योदय शर्मा ने हमें जानकारी दी कि 22 जून को पटना के श्री कृष्ण मेमोरीयल हॉल में दाऊदनगर मुखिया संघ के सदस्य अधिवेशन में भाग लेंगे। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा मुखिया के अधिकारों एवम गांधी का ग्रामस्वराज्य का सपना में कटौती के खिलाफ बिहार प्रदेश मुखिया महासंघ के आव्हान पर राज्य भर के मुखिया सरकार के ख़िलाफ़ सड़क से लेकर न्यायालय तक आरपार की लड़ाई लड़ेंगे।
नाराज़ मुखिया सूबे के मुख्यमंत्री पर तानाशाह होने का आरोप लगाते हुए कहा कि माननिय उच्च न्यायालय के निर्णय के ख़िलाफ़ में अध्यादेश लाना संविधान संगत नहीं है। राज्य सरकार लगातार मुखिया के अधिकारों में कटौती कर रही है जिससे पंचायत का विकास बाधित हो रहा है यहाँ तक  कि वार्ड सदस्यों और मुखिया के बीच अंतर्विरोध पैदा हो रहा है जो लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है।

जन प्रतिनिधि के रूप में मुखिया ही एक मात्र ऐसा प्रतिनिधिं है जो अपने क्षेत्र में हमेशा लोगों के बीच रहकर उनकी समस्यायों का निराकरण करती है। जनता बहुत उम्मीद से अपना मुखिया चुनती है और जब मुखिया के अधिकारों पर बार बार कैंची चलती रहेगी तो विकास कैसे सम्भव है?

Leave a Reply