तीन डीलरों पर गिरी गाज, अनियमितता के आरोप में प्राथमिकी हुई दर्ज

संतोष अमन की रिपोर्ट:

एसडीओ राकेश कुमार के आदेशानुसार बुधवार को तीन पंचायतों के डीलरों की दुकानों का औचक निरीक्षण संबंधित जांच पदाधिकारियों द्वारा किया गया। जांच प्रतिवेदन के बाद तीन डीलरों के खिलाफ अनियमितता का आरोप लगाते हुये प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी मुकेश कुमार द्वारा तीन अलग-अलग प्राथमिकी दाउदनगर थाना में दर्ज करायी गई है। प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के पत्रांक 212 दिनांक 14 जून 2015 द्वारा दर्ज करायी गयी प्राथमिकी में कनाप पंचायत के छक्कु बिगहा गांव निवासी डीलर राजेश्वर सिंह लाइसेंस न0-54/डी0/85 को आरोपित बनाते हुये कहा गया है कि जांच के क्रम में विक्रेता ने वितरण एवं भंडार पंजी देने से इंकार कर दिया। लाभुकों ने नियमित और उचित मात्रा में खाद्यान नहीं मिलने और 13 रूपये के बदले 18 रूपया वसूलने, कैशमेमो नहीं देने की शिकायत की।

प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के पत्रांक 213/दिनांक 14 जून 2017 द्वारा दर्ज करायी गयी प्राथमिकी में चौरी पंचायत के बिरई गांव के ज.वि.प्र. दुकानदार अशोक शर्मा अनुज्ञप्ति संख्या-08/डी0/87 को आरोपित बनाते हुये कहा गया है कि दाउदनगर बीडीओ ने उक्त दुकान की जांच की। दुकान में साढे सात क्विंटल यानी 15 बोरा गेहूं और 19 क्विंटल यानी 38 बोरा चावल पाया गया। किरासन तेल की जानकारी नहीं दी गई। भंडार एवं वितरण पंजी नहीं दिखाया गया और विक्रेता जान बूझकर चला गया। लाभुकों ने अपने बयान में प्रत्येक माह खाद्यान नहीं मिलने, अधिक मूल्य पर खाद्यान देने, कैशमेमो नहीं देने, कुछ लाभुकों का राशन कार्ड रख लेने समेत अन्य आरोप लगाये।

प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के पत्रांक 214 दिनांक 14 जून 2017 द्वारा दर्ज करायी गयी प्राथमिकी में अंछा पंचायत के चौरम गांव के ज.वि.प्र. दुकानदार विनोद सिंह अनुज्ञप्ति संख्या-57/डी0/85 को आरोपित बनाया गया है। प्राथमिकी में कहा गया है कि सीओ विनोद सिंह उक्त ज.वि.प्र. दुकान की जांच करने गये थे। लाभुकों द्वारा प्रति माह अनाज व तेल नहीं मिलने, अधिक मूल्य लेने एवं कम तेल व अनाज देने की शिकायत की गई। प्राथमिकी में कहा गया है कि डीलर जान बूझकर जांच नहीं करने देने के नियत से दुकान बंद कर कहीं बाहर चले गये।

Leave a Reply