लघुफ़िल्मों के लिए दाऊदनगर के कलाकारों का हुआ चयन

फ़िल्म निर्देशक धर्मवीर भारती ने एक प्रेस बयान जारी कर बताया कि उनकी प्रोडक्शन कम्पनी “धर्मवीर फ़िल्म एंड टीवी प्रोडक्शन” जल्द ही मशहूर लेखक, कहानीकार, नाटक, रेडियो, फ़िल्म के पटकथा लेख़क सआदत हसन मंटो की लघु कहानियों को लेकर शॉर्टफ़िल्म की सिरीज़ बनाएगी। उन्होंने अपने इस प्रोजेक्ट को ड्रीम प्रोजेक्ट का एक हिस्सा बताया।
इससे पहले उनकी प्रोडक्शन कम्पनी पिछले तीन वर्षों से “हेरिटेज ऑफ़ मगध” नामक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म की सीरीज़ का निर्माण कर रही है। इस सिरीज़ के अंतर्गत कई सारी डॉक्यूमेंट्री रिलीज़ हो चुकी है और कुछ निर्माणाधीन है। इसी सिरीज़ की दो डॉक्यूमेंट्री को राष्ट्रीय और अन्तराष्ट्रीय स्तर के अवॉर्ड भी मिले। बाकी फिल्मों पर काम चल रहा है जिसे समय अनुकूल एक के बाद एक रिलीज़ किया जाएगा।


इस नए प्रोजेक्ट को लेकर श्री भारती काफ़ी उत्साहित दिख रहे। उन्होंने अपने प्रशंशकों के लिए उस मशहूर लेखक सआदत हसन मंटो की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कई रोचक तत्व को सबके साथ साझा किया। फ़िल्म प्रोडक्शन की एमडी डॉली ने बताया कि मंटो की लघुकहानियों पर आधरित फिल्मों में कलाकार के रूप बाहरी एवं स्थानीय रंगकर्मियों को मौक़ा दिया जाएगा। इस सिरीज़ के फ़िल्मों को  राष्ट्रीय तथा अन्तराष्ट्रीय फ़िल्म फ़ेस्टिवल में प्रदर्शित किया जाएगा।

शुरूवती सिरीज़ में उन्होंने श्री मंटो की पाँच कहानियों का चयन किया है जिसमें से दो पर काम ईसी वर्ष की जुलाई महीने में पूरा किया जाएगा। उन दो कहानियों के नाम “बेख़बरी का फ़ायदा” एवं “घाटे का सौदा” है। “बेख़बरी का फ़ायदा” वर्तमान सामाजिक परिदृश्य को दर्शाता है जिसमें अच्छे लोग निष्क्रिय बैठे हैं और इसी बेख़बरी का फ़ायदा समाज में ऊँवाद फैलाने वाले लोग उठा रहे हैं। वहीं दूसरी कहानी “घाटे का सौदा” धार्मिक कटाक्ष को दर्शाती है।

दोनों फ़िल्मों की शूटिंग दाऊदनगर तथा औरंगाबाद एक आसपास के इलाक़ों में होगा। जानकारी के मुताबिक़ “बेख़बरी का फ़ायदा” की शूटिंग आउटडोर होगी वहीं “घाटे का सौदा” की शूटिंग इनडोर होगी। दोनों कहानियों के लिए पत्रों का चयन कर लिया गया है जिसमें मुख्य रूप से दाऊदनगर एवं औरंगाबाद के रंगकर्मी विभिन्न भूमिकाओं में दिखेंगे। पात्रों के तौर पर दाऊदनगर से संतोष अमन, ग़ुलाम रहबर, गोविन्दा, संकेत सिंह, पप्पू, मधुलिका तथा औरंगाबाद से सोनू आग्रही, संजर रहमान एवं रणवीर को इन फ़िल्मों में मुख्य रूप से देख पाएँगे। इसके अलावा और कलाकारों की खोज अभी भी जारी है। पात्रों के मेकप का कार्यभार दीपा देखेंगी वहीं पोस्ट प्रोडक्टशन की ज़िम्मेदारी ख़ुद श्रीमती डॉली के कंधों पर होगी।

Leave a Reply