9 जून को विशेष शिविर में गर्भवती महिलाओं की होगी जांच

बैठक में निर्देश देते केयर के जिला पोषण पदाधिकारी रितेश कुमार एवं स्वास्थ्य प्रबंधक विकास शंकर

संतोष अमन की रिपोर्ट:

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना अभियान के तहत 9 जून को पीएचसी में आयोजित विशेष शिविर में गर्भवती महिलाओं की जांच महिला चिकित्सक डॉ नम्रता प्रिया एवं चिकित्सा पदाधिकारी डॉ विनोद प्रसाद शर्मा द्वारा किया जाएगा। इस शिविर में गर्भवती महिलाओं की अधिक से अधिक उपस्थिति सुनिश्चित करायें। गर्भावस्था के दौरान उनकी जांच चिकित्सक से कराना अत्यंत आवश्यक है। उक्त बातें स्वास्थ्य प्रबंधक विकास शंकर ने स्थानीय पीएचसी में एएनएम एवं आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करते हुये कही। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ मनोज कुमार कौशिक ने स्वास्थ्य केंद्रों को सुचारू रूप से संचालित करने से संबंधित कई निर्देश दिये। कहा गया कि प्रत्येक महीने की निर्धारित तिथी को सभी स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में एएनएम, आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आंगनबाडी सेविका एवं एनजीओ से जुड़े लोगों की बैठक अनिवार्य रूप से होनी चाहिए, जिसमें आम जनता को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने पर चर्चा होनी चाहिए। आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को गृह भ्रमण पंजी संधारण के बारे में बताते हुये केयर के जिला पोषण पदाधिकारी रितेश कुमार ने कहा कि प्रसव बाद माताओं की 42 दिनों तक देखरेख करना एएनएम, आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता एवं आंगनबाडी सेविका की जवाबदेही है। आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को पंजी संधारण के आधार पर ही मानदेय भुगतान होना है। इस पंजी का उदेश्य है कि माताओं को स्तनपान, प्रसव पूर्व एवं प्रसव के बाद की स्वास्थ्य संबंधी सलाह समेत अन्य जानकारियां प्रदान की जाये। इस मौके पर एकांउटेंट सुनील कुमार समेत अन्य स्वास्थ्यकर्मी मौजूद रहे।

बैठक में उपस्थित एएनएम एवं आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ता

Leave a Reply