तेज बुखार के साथ उल्टी व कँपकँपी को नहीं करें नजर अंदाज

 
दाउदनगर,31मई

     बच्चों में तेज बुखार के साथ उल्टी व कँपकँपी को नहीं करें नजर अंदाज ,नहीं तो यह आपके बच्चे पर भारी पड़ सकता है, इससे आपके बच्चे की जान जा सकती है क्योंकि ये लक्षण मादा मच्छर के काटने से होने वाली बीमारी मलेरिया,डेंगु,चिकनगुनिया व मस्तिष्क ज्वर के हैं । 

      उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मोनिटर अरविन्द कुमार सिन्हा ने स्थानीय छत्तर दरवाजा स्थत आंगनवाड़ी केन्द्र संख्या163 पर आयोजित सामुदायिक बैठक में कही ।

      बैठक में श्रीसिन्हा ने बताया कि उपरोक्त सभी बिमारियों में मस्तिष्क ज्वर सबसे अघिक लाईलाज व जानलेवा बीमारी है मादा क्युलेक्स नामक मच्छर के काटने से होती है ।यह मादा क्युलेक्स नामक मच्छर जब किसी जलीय पक्षी जैसे -बगुला,सारस,शुतुरमुर्ग एवं बतख या जानवर में सुवर को काटने के बाद एक से पन्द्रह साल की आयुवर्ग के बच्चों में काटता है तो वह बच्चा मस्तिष्क ज्वर नामक बीमारी से संक्रमित हो जाता है जिस कारण उस बच्चे को तेज बुखार के साथ उल्टी,कँपकँपी,बेहोशी,सिर दर्द,नींद में बड़बड़ाना,दाँत पे दाँत लगना,मुँह सै झाग आना,चमकी आना,कमजोरी व सुस्ती जैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं , ऐसी स्थिति में रोगी को प्राथमिक उपचार के तौर पर ठंढी पानी की पट्टी देकर अतिशीध्र निकटतम सरकारी अस्पताल भेजना चाहिए ।

    मच्छर जनित बीमारी से बचने के लिए श्रीसिन्हा ने बताया कि लोंगों को खुले में  शौच नहीं करना चाहिए, जहाँ तहाँ गंदगी नहीं करना चाहिए। समय समय पर अपने हाथों को साबुन से साफ करना चाहिए ।

    बैठक में सेविका सुमित्रा देवी सहित दर्जनों महिलाएँ उपस्थित थीं ।

     इसके पहले स्थानीय राम बिन्द टोला स्थित कलावती देवी के आंगनवाड़ी कंन्द्र संख्या 167 पर एवं ओबरा के केन्द्र संख्या 01 पर भी सामुदायिक बैठक आयोजित की गयी।

Leave a Reply