इंटरमीडियट के असफल छात्रो के लिये एक सन्देश

प्रेमनाथ कुमार

प्रेमनाथ कुमार

मेरी तरफ से इंटरमीडिएट के असफल छात्रों के लिए बस एक संदेश डिग्री प्रतिभा का एकमात्र मापदंड नहीं है क्योंकि वो आपके मेहनत के साथ साथ आपके सामयिक परिस्थिति, व्यवस्था और आपके समृद्धि पर भी निर्भर करता है। एक असफलता से आपका जीवन समाप्त नहीं हो जाता बल्कि वो आपको खुद में बदलाव लाकर सुधार के मौके भी उपलब्ध कराता है। ऐसे बहुत सारे लोग भी हैं जो नम्बर या ग्रेड आधारित परीक्षा में बहुत अच्छा परिणाम लाते हैं परन्तु व्यक्तिगत जीवन में असफल रह जाते हैं। गौर करके देखें तो उच्च डिग्री वाले लोग साधारण नौकरी के लिए तरसते रह जाते हैं परन्तु कम शिक्षित लोग भी ईतिहास रच जाते हैं। इसलिए हतोत्साहित न हों और पुन: बेहतर करने का प्रयास करें। भगवान ने हर व्यक्ति को स्पेशल बनाया है जो अपनी रूचि के अनुसार कार्य करके महान बन सकता है लेकिन सबसे बड़ी बात है कि हम अपनी क्षमता और रूचि को पहचानें। देखा देखी करने वाले हमेशा पीछे चलते हैं आगे रहने के लिए नया रास्ता बनाना पङता है जहां मुश्किलें जरूर आती है बिना गिरे ऊँचाई पर जानें का मजा नहीं आता ईसलिए निराश न हों भगवान नें आपको खुद को साबित करने का दूसरा मौका दिया है बस कमियों को पहचानें और सफलता की राह में आने वाले बाधाओं की संभावनाओं पर फोकस करके उनसे निपटने के लिए तैयार रहें सफलता उङते हुए आपकी गोद में आकर गिरेगी और ईतराएगी भी कि इसने मुझे अपनी काबिलियत और मेहनत से पाया है ईसलिए सबसे ज्यादा मेरी कद्र यही करेगा। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं।

                                         प्रेमनाथ कुमार

                                  दाउदनगर

Leave a Reply