महिलाएँ चाहें तो खुले में शौच से मुक्ति दिला सकती हैं=अरविन्द

दाउदनगर,24,मई

      अगर समाज की सभी महिलाएँ  दिलो दिमाग से चाह ले तो वे समाज को खुले में शौच से मुक्ति दिला सकती हैं और समाज को कई लाईलाज,जानलेवा व घातक बीमारी से बचा सकती हैं लेकिन इसके पहले समाज की सभी महिलाओं को स्वास्थ्य व स्वच्छता के प्रति जागरूक होना पड़ेगा क्योंकि समाज में खुले में शौच करने से उसमें जन्में,वैक्टिरिया,वायरस,मच्छर व मक्खी से सैकड़ों बिमारियाँ होती है ।

       उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मोनिटर अरविन्द कुमार सिन्हा ने हसपुरा प्रखंड के सिहाड़ी ग्राम में आंगनवाड़ी केन्द्र संख्या 39 पर आयोजित सामुदायिक बैठक में कही ।

      बैठक में श्रीसिन्हा ने बताया गंदगी में जन्म लेने व पलने वाले मादा मच्छर से दर्जनों लाईलाज व जानलेवा बिमारियाँ होती हैं जैसे-मलेरिया,डेंगु,चिकनगुनिया व मस्तिष्क ज्वर आदि । इनमे से मस्तिष्क ज्वर सबसे ज्यादा लाईलाज व जानलेवा है जो क्यूलेक्स नामक मादा मच्छर के काटने से होता है जिससे समाज को बचने की आवश्यकता है वरना यह कहर ढा सकता है ।

       श्रीसिन्हा ने मच्छरजनित बिमारियों से बचने के लिए अपने-अपने  घरों व उसके आसपास के ईलाके की साफ सफाई पर विशेष घ्यान देने की आवश्यकता है,स्वच्छ पानी पीने एवं कीटाणु मुक्त भोजन करने की आवश्यकता है ।

       बैठक में सेविका चंचला देवी,सहायिका जीरामणी देवी सहित दर्जनों महिलाएँ उपस्थित थीं ।

Leave a Reply