नाटक के माध्यम से सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार को उजागर करने का प्रयास

नाटक “अंजामे गुलिस्ताँ क्या होगा” देश के कई बड़े स्टेज पर प्रदर्शित हो चुकी है और इसी महीने में एक और प्रस्तुति चंडीगढ़ में होनी है जिसके लिए कलाकार पूरी तरह तैयार हैं। 

आप सब के लिए प्रस्तुत है इस नाटक की मुख्य बातें:
मौजूदा दौर में जिस प्रकार सरकारी तन्त्र में भ्रष्टाचार दीमक की तरह जकड़ कर बैठा है, यह नाटक उन चीज़ों को बख़ूबी प्रदर्शित करती है। सरकारी बाबूवों की जिस तरह दलाल के साथ साँठ-गाँठ बनी रहती है और भ्रष्टाचार जिस प्रकार नीचे से ऊपर तथा ऊपर से नीचे की तरफ़ सरकारी तंत्र में परवाह होती है, उस शृंखला को इस नाटक के माध्यम से दर्शाने का प्रयास किया गया है। चपरासी से लेकर बड़ा बाबू एक आम जनता के कार्यों को किस प्रकार अनिश्चित काल के लिए टाला जाता है यह हम सब से परे नहीं है। वही काम अगर किसी दलाल के माध्यम से कराएँ तो वही बड़ा बाबू झट से काम कर देता है, पर दलाल के माध्यम से भला हर कोई काम करवा सकता है क्या?

उपरोक्त बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए “अंजामे गुलिस्ताँ क्या होगा” की स्क्रिप्ट तथा पात्र को आप सब के लिए सजाया गया है। एक भावनात्मक तथा सामाजिक संदेश के साथ साथ आपके मनोरंजन का भी अच्छा ख़ासा ख़याल रखा गया है। बड़ा बाबू का महिला सहकर्मी के साथ फ़्लर्ट और युवा कर्मी का आधुनिक एवं रंगीन मिज़ाज आपको हँसने पर मजबूर कर देगी। अगर पात्रों की बात करें तो बड़ा बाबू, युवा सहकर्मी, महिला सहकर्मी, छक्का सहकर्मी, चपरासी, नेता, दलाल, आम आदमी इत्यादि शामिल हैं जिनके डाइयलोग और अभिनय आपको दीवाना बना देगी। अगर आपने या नाटक नाही देखी गई तो मौक़ा मिलने पर अवश्य देखें क्यूँ ना टिकट लेकर देखना पड़े। समय और पैसा वसूल नाटक की प्रस्तुति दाऊदनगर स्थित प्रबुध भारती ग्रूप के कलाकारों को लेकर धर्मवीर भारती द्वारा निर्देशित की गई है।

दाऊदनगर के कलाकारों द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर इस नाटक को प्रदर्शित कर अपने शहर को चिन्हित कराने का प्रयास किया है। यह नाटक राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार जीत चुकी है।

Leave a Reply