तेज बुखार के साथ उल्टी व कँपकँपी को हल्के में नहीं लें–अरविन्द


बच्चों में तेज बुखार के साथ उल्टी व कँपकँपी को हल्के में नहीं लें,यह बच्चों के लिए जानलेवा व घातक साबित हो सकता हैं , क्योंकि यह मलेरिया ,डेंगु,चिकनगुनिया व मस्तिष्क ज्वर के लक्षण हैं । उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मोनिटर अरविन्द कुमार सिन्हा ने हसपुरा के नरसन ग्राम में आंगनबाड़ी केन्द्र संख्या 67  पर आयोजित सामुदायिक बैठक में किशोरी बालिकाओं व महिलाओं को मच्छरजनित ए.इ.एस.व जे.ई.से जागरुक करते हुये कही।बैठक में श्रीसिन्हा ने बताया कि ए.ई.एस. बिमारियाँ मच्छर से होनेवाली बीमारियों का एक समूह है जिसमे एक सौ से ज्यादा बीमारियाँ होती हैं ।इसमें मलेरिया,डेंगु,चिकनगचनिया व मस्तिष्क ज्वर जैसी लाईलाज,जानलेवा व घातक बीमारियाँ शामिल हैं । उपरोक्त बीमारी में से सबसे खतरनाक बीमारी मस्तिष्क ज्वर है जो मादा क्यूलेक्स नामक मच्छर के काटने  से होती है ।श्रीसिन्हा ने बताया कि मच्छर जनित बिमारियों से बचने के लिए खुले में शौच नहीं करना चाहिए, घर घर के आसपास सहित नली नालों की विशेष साफ सफाई करनी चाहिए । दुषित जल व दुषित भोजन का उपयोग नहीं करना चाहिए । बैठक में सेविका सरस्वती कुमार,सहायिका विमला देवी सहित पचास से ज्यादा किशौरी बालिकाएं व महिलाएं उपस्थित थीं ।

Leave a Reply