रासायनिक खाद के अत्यधिक मात्रा से सूक्ष्म पोषक तत्व हो चुका है खत्म


 दाउदनगर प्रखंड के केसराड़ी गांव में एक किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया। नवभारत फर्टीलाईजर्स के कृषि पदाधिकारी रामशक्ल पासवान ने किसानों को जीवाणु खाद का महत्व, जीवाणु खाद का फायदा एवं जीवाणु खाद प्रयोग करने की विधि विस्तारपूर्वक बताया। उन्होंने कहा कि आज किसान रासायनिक खाद अत्यधिक मात्रा में प्रयोग कर रहे हैं जिसके कारण मिटटी के अंदर पाये जाने वाले मित्र जीवाणु मर चुके हैं। मिटटी में सूक्ष्म पोषक तत्व खत्म हो चुका है। रासायनिक खाद से अनाज तो उपजा लेते हैं लेकिन अनाज में भंडारण क्षमता नहीं रहने व केमिकलयुक्त होने के कारण मानव जीवन में अनेक बीमारियां उत्पन हो रही हैं। इससे बचने के लिये अपने-अपने खेतों में जीवाणु खाद को किसान अपनायें। जिससे जीवाणु पनपने लगेंगे और उपजे हुये अनाज में भंडारण क्षमता बढ जाएगी। इस मौके पर किसान जयनारायण पासवान, शत्रुधन पासवान, राजाराम पासवान, दयानंद पासवान, मोहन पासवान, जगजीवन पासवान, चंद्रदेव राम, जयनंदन राम, सुजीत पासवान, गनौरी पासवान आदि प्रमुख रूप से मौजूद थे।

Leave a Reply