एजेंटी विवाद में हुई हत्या,चार प्राथमिकी दर्ज


भखरूआं मोड के पटना रोड में उमरचक निवासी युवक धर्मेन्द्र कुमार की हत्या गुरूवार को एजेंटी विवाद में हुई है। इसका खुलासा घटना के संबंध में दर्ज प्राथमिकी में हुआ है। जानकारी के अनुसार गुरूवार की घटना से संबंधित कुल चार प्राथमिकी दाउदनगर थाना में दर्ज की गई है। पहली प्राथमिकी मृतक धर्मेन्द्र के भाई उमरचक निवासी सत्येंद्र कुमार द्वारा, दूसरी प्राथमिकी जमुआंवा निवासी सुनील यादव की पत्नी कुंती देवी, तीसरी प्राथमिकी पत्रकार उपेंद्र कश्यप और चौथी प्राथमिकी पुलिस द्वारा दर्ज करायी गयी है। 

मृतक धर्मेन्द्र के भाई उमरचक निवासी सत्येंद्र कुमार ने दाउदनगर थाना में दर्ज करायी प्राथमिकी में कहा है कि घटना का कारण बस एवं टेम्पो चलाने के लिए विवाद है क्योंकि मृतक धर्मेन्द्र बस एवं टेम्पो चलाने के लिए टाइमकीपर का काम करता था। सत्येंद्र द्वारा दर्ज करायी गई प्राथमिकी में जमुआंवा निवासी परमेश्वर साव, नरेश यादव, अनिल यादव व सुनील यादव एवं दो तीन अज्ञात को नामजद आरोपित बनाते हुये कहा गया है कि नरेश यादव ने मृतक धर्मेन्द्र को पीछे से सटाकर दो नाली बंदूक से गोली मारी। इसके बाद अनिल यादव एवं सुनील यादव ने अपने पास के छोटी बंदूक से धर्मेन्द्र के अगल-बगल में तीन गोली मारी। घटना स्थल पर ही धर्मेंद्र की मौत हो गयी। हल्ला करने पर भीड खदेडने लगी। आगे में परमेश्वर साव ने दोनों हाथ फैलाकर उन्हें इधर-उधर भागने का इशारा किया। सुनील यादव हाथ में हथियार लहराते हुये पटना रोड में उतर की तरफ भागता रहा। जिसे आक्रोशित भीड के द्वारा पकड लिया गया। एसडीपीओ संजय कुमार ने बताया कि अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिये लगातार प्रयास किया जा रहा है।  
> सुनील की पत्नी ने दर्ज करायी प्राथमिकी- 

दूसरी प्राथमिकी जमुआंवा निवासी सुनील यादव की पत्नी कुंती देवी द्वारा दर्ज करायी गयी है। जिसमें उमरचक निवासी छः नामजद और 50-60 अज्ञात को आरोपित बनाया गया है। प्राथमिकी में कहा गया है कि उसका देवर अनिल यादव टेम्पो चलाता है। गुरूवार को दिन में दस बजे जब वह टेम्पो लेकर दाउदनगर पहुंचा तो धर्मेन्द्र ने एजेंटी की मांग की। अनिल ने कहा कि उसका एजेंटी नहीं लगता है। इसी बात पर मारपीट की घटना घटी। अनिल ने घर पर आकर इसके बारे में बताया तो सूचक के ससुर नरेश यादव और उसके पति सुनील यादव ने समझाया कि दोबारा ऐसा करेगा तो देख लेंगे। उसके बाद दिन में करीब 2ः30 बजे अनिल टेम्पो लेकर दाउदनगर चला गया। उसका पति सुनील यादव बाजार करने के लिए घर से निकला। शाम में अनिल टेम्पो लेकर घर पहुंचा और कहा कि सुनील को पकडकर आरोपित उमरचक गांव की ओर ले गये हैं और लाठी-डंडा एवं ईंट पत्थर से मारपीट कर रहे हैं। इसका कहना है कि आरोपितों ने पीट-पीट कर उसके पति की हत्या कर दी है। 

> पत्रकार ने दर्ज करायी प्राथमिकी- 

दैनिक जागरण के पत्रकार उपेंद्र कश्यप के बयान पर भी एक प्राथमिकी दाउदनगर थाना में दर्ज की गई है। उन्होंने प्राथमिकी में कहा है कि वे भखरूआं मोड पर एक व्यक्ति की हत्या और सडक जाम की सूचना पाकर पहुंचे और जाम कर रहे भीड का फोटो ले रहे थे तभी भीड से एक 30-35 साल का लम्बा गोरा लडका उनकी ओर इशारा करते हुये भीड को उकसाते हुये बोला कि मारो पत्रकार को। इसके बाद वे बचने के लिए वहां से भागे लेकिन उस लडके ने कुछ लोगों के साथ मिलकर उन्हें घेर लिया और लाठी डंडा से मारपीट कर उनका सिर फोड दिया। उनके साथ गाली-गलौज करते हुये मारपीट करने वाले करीब 20-25 लोगों ने जान मारने की नियत से उन पर हमला किया। 

> पुलिस ने दर्ज करायी प्राथमिकी- 

चैथी प्राथमिकी सडक जाम के मामले में पुलिस द्वारा दर्ज करायी गयी है। थानाध्यक्ष अभय कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस सब इंस्पेक्टर शौकत खान के बयान पर दर्ज प्राथमिकी में पांच नामजद एवं डेढ दो सौ अज्ञात आरोपितों को आरोपित बनाया गया है। 

Leave a Reply