शिविर लगाकर गर्भवती महिलाओं की हुई जांच, दी गई आवश्यक निर्देश

गर्भवती महिलाओं की जांच करते महिला चिकित्सक डॉ नम्रता प्रिया एवं चिकित्सक डॉ आर एन ओझा

संतोष अमन की रिपोर्ट:

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत मंगलवार को दाउदनगर पीएचसी में विशेष शिविर लगाकर इस प्रखंड के 304 गर्भवती महिलाओं की जांच करते हुये उन्हें आवश्यक सलाह दिया गया। डीपीएम डॉ कुमार मनोज ने भी पहुंचकर शिविर का निरीक्षण किया। महिला चिकित्सक डॉ नम्रता प्रिया एवं चिकित्सक डॉ आर एन ओझा ने गर्भवती महिलाओं की जांच की। पीएचसी द्वारा महिलाओं को आयरन फोलिक एसिड और कैल्सियम का टैबलेट दिया गया। सुरक्षित मातृत्व के लिए पुस्तिका का वितरण किया गया। हिमोग्लोबिन, एचआईबी समेत चार प्रकार के नि:शुल्क जांच किये गये। स्वास्थ्य प्रबंधक विकाश शंकर ने कहा कि गर्भवती महिलाओं का प्रसव पूर्व चार जांच होना आवश्यक है। पहली जांच तीन महीने के अंदर, दूसरी जांच चौथे से छठे महीने में, तीसरी जांच सातवें से आठवे महीने में व चौथी जांच गर्भावस्था के नौवें महीने में कराना चाहिए। कम से कम एक जांच चिकित्सक द्वारा होना अनिवार्य है। इस अभियान के तहत प्रत्येक महीने के 9 तारीख को पीएचसी में गर्भवती महिलाओं की जांच की जा रही है। बीसीएम शशिकांत कुमार ने कहा कि नियमित रूप से प्रसव पूर्व जांच कराना गर्भवती माता और बच्चे को जटिलताओं से बचाता है। जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ रहते हैं। सभी एएनएम व आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सख्त हिदायत दी गई है कि गर्भवती महिलाओं को जांच शिविर में आने के लिए प्रेरित करें। एएनएम हीरामणी कुमारी हर्ष, वीणा कुमारी व निर्मला कुमारी ने जांच में सहयोग किया। पीएचसी को भव्य व आकर्षत ढंग से सजाया गया था।

Leave a Reply