शौचालय के अभाव से लोगों की परेशानी बढ़ी

सांकेतिक तस्वीर

संतोष अमन की रिपोर्ट:-

नगर पंचायत बोर्ड के पांच वर्ष पूरा हो चुका है। अब दाउदनगर नगर परिषद बन चुका है।विकास के बड़े-बड़े दावे किये जाते हैं। लेकिन सबसे मूलभूत सुविधा शौचालय व यूरिनल की व्यवस्था आज तक नहीं हो पायी है। कहने को तो कुछ स्थानों पर करीब एक दर्जन रेडिमेड शौचालय लगवाया गया, जिसमें पानी की व्यवस्था ही नहीं है। अधिकांश में ताले बंद हैं।यदि कुछ चालू हैं भी तो उसमें गंदगी व्याप्त है।यानी उसका लाभ आम जनता को नहीं मिल पा रहा है। नगर पंचायत की दाउदनगर बारुण रोड स्थित खाली पड़ी जमीन पर सार्वजनिक शौचालय कई वर्षों से बनकर तैयार है जिसे आज तक चालू नहीं कराया गया। महादलित परिवार ने इस शौचालय में अपना डेरा बना रखा है। करीब डेढ़ दशक पूर्व न०प० द्वारा कुछ स्थानों पर बनवाए गये पेशाबखाना कब का ही ध्वस्त हो चुके हैं, कहीं भी यूरिनल का निर्माण नहीं कराया गया है। बाहर से या बाजार करने आने वाले लोग शौचालय व यूरिनल के अभाव में भटकते रहते हैं। महिलाओं को काफी परेशानी झेलनी पड़ती है, मगर इस समस्या का कोई समाधान निकलता नहीं दीख रहा। हांलाकि सूत्रों के अनुसार इस दिशा में न०प० बोर्ड द्वारा सार्थक पहल भी की गई है, लेकिन अब तक परिणाम शून्य दीखता है। वार्ड पार्षद बसंत कुमार ने कहा कि न०प० बोर्ड ने पूर्व में ही शहर के प्रमुख स्थानों पर शौचालय व यूरिनल निर्माण कराने का प्रस्ताव पारित किया था। इस निर्णय को अमल में लाने के लिए तेजी दीखाने व कारगर पहल की आवश्यकता है।

Leave a Reply