कई बिमारियों का समाघान टीकाकरण

           हमलोग अपने -अपने बच्चों का टीकाकरण कराकर उन्हें भविष्य में होनेवाली कई लाईलाज व  जानलेवा बिमारियों से बचा सकते हैं । हमारे गाँव समाज में 

एक से पन्द्रह वर्ष की आयुवर्ग के बच्चे सबसे ज्यादा बिमारियों से प्रभावित होते हैं ।

       उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मोनिटर अरविन्द कुमार सिन्हा ने गोह के मेन रोड स्थित राजकीय मघ्य विघालय में पाथ द्वारा आयोजित सामुदायिक बैठक में स्कुली बच्चों को स्वास्थ्य व टीकाकरण के प्रति जागरूक करते हुये कही ।

      बैठक में श्रीसिन्हा ने बताया कि हमारे बच्चों के बीच सबसे लाईलाज व जानलेवा बीमारी मस्तिष्कक ज्वर है जो एक से पन्द्रह आयु वर्ष के बच्चों मे मादा क्यूलेक्स नामक  मच्छर के काटने से होती है ।इससे बचने के लिए नौ माह से चौबीस माह की आयु बर्ग के बच्चो को जैपनीज इंसेफलाईटिस अर्थात जे.इ के दो टीके अवश्य लेना चाहिए। प्रत्येक दिन अपने अपने घरों एवं उसके आसपस के  इलाके सहित नली नालों.की साफ सफाई करनी चाहिए। 

     श्रीसिन्हा ने बताया कि गंदगी में जन्म लेनेवाले एवं पलनेवाले मच्छर से डेंगु,मलेरिया,चिकनगुनिया व मस्तिष्क ज्वर जैसी दर्जनों बिमारियाँ होती है जिससे बच्चों को बचने की आवश्कता है।

       बैठक में प्रघानाघ्यापक नवल किशोर एवं शिक्षक अजय कुमार सहित दर्जनों बच्चे उपस्थित थे ।

        इसके पहले श्रीसिन्हा द्वारा दाउदनगर के हाता चौराहा स्थित राजकीय मघ्य विधालय एवं हसपुरा के राजकीय मध्य विधालय व कस्तुरबा मध्य विधालय में सामुदायिक बैठक कर स्कुली बच्चों को स्वास्थ्य क टीकाकरण के प्रति जागरूक किया गया ।

            

Leave a Reply