महात्मा ज्योतिबा फुले के जयंती के अवसर पर किया गया पुष्पांजली

आज दिनांक 11 अप्रैल 2017 दिन मंगलवार को  महात्मा ज्योतिबा  फुलेनगर, शहीद प्रमोद सिंह पथ वार्ड संख्या पाँच पर अवस्थित स्वामी विवेकानंद राष्ट्रीय युवा मंच के कार्यालय में मंच के राष्ट्रीय संयोजक श्री अनुज कुमार पांडेय की अध्यक्षता में शिक्षाक्रांति के महानायक, समाजिक न्याय के पुरोधा, समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्तियों के सम्बल महात्मा ज्योतिबा फुले के जयंती के अवसर पर एक पुष्पांजली सभा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित वार्ड पार्षद बसन्त कुमार ने सभा को सम्बोधित करते हुए महात्मा ज्योतिबा फुले को समाज के दबे-कुचले व्यक्तियों का मसीहा बताया। उन्होंने कहा कि बा ने समाज के वंचित वर्ग का प्रतिनिधित्व कर उन्हें शिक्षा रूपी अस्त्र से मजबूत होने के लिए प्रेरित किया।
देश शिक्षा के प्रति अमूल्य योगदान को नहीं भूल सकता है। मंच के राष्ट्रीय संयोजक श्री अनुज कुमार पांडेय ने महात्मा फुले को नमन करते हुए उनकी जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे शिक्षाक्रन्ति के जागृत मशाल थे। महात्मा फुले ने इस बात को महसूस किया था कि शिक्षा की कमी के कारण ही समाज का वंचित वर्ग मुख्यधारा में नही आ रहा है। इसलिए उन्होंने अपनी पत्नी माता सावित्री बाई फुले के साथ मिलकर स्त्री शिक्षा और वंचित वर्ग के शिक्षा के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन बलिदान कर दिया। भारतवर्ष उनके रास्ते पर चलकर ही पुनः विश्वगुरु बन सकता है। इस अवसर पर खलील माली, समाजसेवी अजय पांडेय, राघवेन्द्र कुमार, प्रशान्त मिश्र, अविनाश रंजन, प्रभात छोटू, रजनीश कुमार, कुणाल किशोर, सुजीत कुमार, रामजी भगत, अभिषेक कुमार आर्या, रमेश कुमार, आदर्श सैनी, निकेत नन्दन, निशा नन्दिनी, पप्पू यादव, चन्दन यादव, मुनारिक यादव और भारी संख्या में स्थानीय लोग उपस्थित थे। सभी ने बारी-बारी से महात्मा फुले की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया। कार्यक्रम का संचालन मंच के सहसंयोजक सन्तोष अमन और कोषाध्यक्ष विश्वजीत आनन्द ने संयुक्त रूप से सम्पन किया।

Leave a Reply