इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं- मुबारक हुसैन चतुर्वेदी


राशिद इमाम की रिपोर्ट:

कल दिनांक 7 अप्रिल 2017 को दाउदनगर थाना के समीप हज़रत सैयदना उर्फ घोड़े शाह बाबा के मज़ार पे एक अजिमोशान जलसा का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस जलसा में भभुआ के मशहूर तक़रीरकर्ता अल्लामा मो. मुबारक हुसैन चतुर्वेदी मुख्य रूप से अपना तक़रीर पेश किए। उन्होंने तक़रीर के माध्यम से लोगों को आपसी मतभेद ख़त्म कर सच्चाई की राह पर चलने की बात कही। इस्लाम शांति और सादगी का मजहब है जिसका अमल सही तरीक़े से करने से इंसानियत फैलती है और इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं होता है।

उसके बाद सरैया के मशहूर शायर मौलाना मो.फारूक सरैयया अपने शायराना अन्दाज़ में तकरीर का नमूना पेश किए। जलसे में मंच संचालक के रूप में हाफिज मो.शम्स आलम तथा मुख्य अतिथि के रूप में हाजी हाफिज मो.खुर्शीद आलम, मौलाना मो.मतलूब आलम, मौलाना मो.वाजुल हक़, हाफिज मो. अब्दाल हुसैन क़ादरी, उर्दू अख़बार के प्रेस रिपोर्टर मो.सबा क़ादरी के साथ साथ अन्य लोग शामिल हुए।

Leave a Reply