श्रीराम विवाह का किया गया संगीतमय वर्णन 

प्रवचन करती हुई श्रीमती उषा रामायणी 

संतोष अमन की रिपोर्ट:-

श्रीरामचरितमानस यज्ञ समिति द्वारा सत्संग नगर स्थित सत्संग स्थल पर आयोजित श्रीराम कथा में रविवार की रात चित्रकुट से आयीं कथावाचक उषा रामायणी ने श्रीराम विवाह का वर्णन किया। बहुत ही मार्मिक एवं रोचक ढंग से संगीतमय वर्णन करते हुये उन्होंने कहा कि चारो भाईयों को वर के अनुरूप दुल्हिन प्राप्त हुई। राजा जनक के चार पुत्रियों सीता, उर्मिला, सुकीर्ती, सुकन्या का विवाह दशरथ के पुत्रों राम, लक्ष्मण, भरत एवं शत्रुधन के साथ किया गया। चारो भाई आनंदपूर्वक अयोध्या लौटे तथा वहां मंगल गीत गाये गये। पुत्री विदाई के समय जनक जी के आंखों में आंसू आ गये।

प्रवचन सुनते हुए श्रद्धालु

सुलेखा रामायणी एवं रम्भा कुमारी द्वारा विवाह एवं विदाई गीत के साथ भजन प्रस्तुत किये गये। जिस पर खूब तालियां बजाई गई। वहीं सत्संग स्थल पर भगवान श्री राम, माता सीता, लक्ष्मण, भरत, शत्रुधन व हनुमान जी की प्रतिमा का पट खुलते ही दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड उमड़ पड़ी। यज्ञ मंडप की परिक्रमा लगाने के लिए भी श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी हुई है।

Leave a Reply