बाल संस्कार शिविर के माध्यम से बताये गए योगा के महत्त्व

संतोष अमन की रिपोर्ट:-

पतंजलि योगपीठ हरिद्वार के तत्वाधान में एक दिवसीय बाल संस्कार शिविर का आयोजन संस्कार विद्या नाॅलेज सिटी में किया गया। मुख्य अतिथि पतंजलि के बिहार राज्य योग निरीक्षक शैलेन्द्र आर्य (पतंजलि) ने बच्चों को योग एवं संस्कार से संबंधित बाते बताई। बच्चों को शारीरीक विकास हेतू ताड़ासन, त्रियक ताड़ासन, कष्चिक्रासरन, अर्द्धचक्रासन एवं अन्य व्यायाम बताये। भूलने वाली समस्याओं से निजात पाने हेतू वृच्छासन बताया गया। उन्होंने कहा कि संस्कार एवं अनुशासन को जीवन का मुलभूत सिद्धांत बनाया जाये तो बच्चे अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं। बड़ी सोच, कड़ी मेहनत एवं सच्चा इरादा सफलता का सूत्रधार है। संस्था के सीएमडी सुरेश कुमार गुप्ता ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों का दुरगामी परिणाम यह होता है कि बच्चों में अनुशासन के साथ-साथ संस्कार का सृजन होता है। सीईओ आनंद प्रकाश ने कहा कि वर्तमान परिवेश में बच्चों के जीवन में योगा नितांत आवश्यक है। पतंजलि के जिला योग प्रचारक सुरेश प्रसाद आर्य, पतंजलि किसान सेवा समिति के जिलाध्यक्ष वृजमोहन शर्मा, गौतम उपाध्याय प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Leave a Reply