सड़क या लकड़ी का गोदाम? फाटक के पास मेन रोड अतिक्रमण से ग्रसित

कहने को तो हमारा शहर नगर पंचायत स्तर का है इसके साथ ही साथ यहाँ के लोग इसे नगर परिषद बनाए जाने की माँग भी कर रहे हैं। परन्तु फाटक के पास मेन रोड पर इस तरह का अतिक्रमण नगर पंचायत तथा वार्ड पार्षद के ध्यान में क्यूँ नहीं आता? इस तरह के हालात को देख कर भी अनदेखा करना कितना ख़तरनाक साबित हो सकता है शायद इसका अन्दाज़ा कोई अनहोनी होने के बाद ही समझ में आए।
पिछले वर्ष भी इस बात को पोर्टल के माध्यम से प्रकाश में लाया गया था परन्तु किसी भी प्रकार का कोई संज्ञान नहीं लिया गया। अब तो हालत यह है कि तक़रीबन आधा सड़क लकड़ी के ढेर से क़ब्ज़ा किया हुआ है और ढेर की ऊँचाई इतनी ज़्यादा है कि विपरीत दिशा से आ रही मोटरसाइकल समेत छोटे वाहन भी नहीं दिखाई पड़ते।


सिमेंटेड नाद बनाकर पशुपालन भी मुख्य सड़क पर खुलेआम दिखती है-

लकड़ी के ढेर के साथ साथ मुख्य सड़क पर पशुपालन भी ख़ूब देखने को मिलता है। पशुपालन के लिए बजापता सिमेंट की नाद बना दी गई है। यह सब नज़ारा देखकर यह महसूस होता है कि हम किसी गाँव में एक ज़मींदार के दरवाज़े से होकर गुज़र रहे। आवागमन में इस तरह की दुशवारी होती है जिसका अन्दाज़ा आप यहाँ से गुज़रने के बाद अवश्य लगा सकते हैं। हमारे कई जानने वालों ने यह बताया कि कई बार ओ इस जगह पर बड़े हादसे का शिकार होते होते बचे हैं

Leave a Reply