हवन से जागृत होते हैं शुभ विचार व संस्कार

संतोष अमन की रिपोर्ट:

पुराना शहर स्थित साधुचंद मेहता के आवास पर हवन का आयोजन किया गया। वाराणसी से आये यज्ञकर्ता मनोज कुमार ने सदगुरू सदाफल विश्वशांति यज्ञ में कहा कि यज्ञ से मस्तिष्क पर विशेष प्रभाव पड़ता है, इससे मनुष्य में शुभ विचार एवं संस्कार पैदा होते हैं। हमारे मन में जो कलुषित विचार होते हैं, उसका नाश होता है। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ जब आहूति दी जाती है तो मानव मन में छिपे शुभ विचार जागृत होते हैं जो जीवन यापन में सहयोग करते हैं। हानि-लाभ, सुख-दुख सभी में मन को हिमालय की तरह स्थिर रखना चाहिए। औरंगाबाद से आये यज्ञकर्ता योगेन्द्र सिंह ने भी वैदिक मंत्रोच्चर कर विधि विधान के द्वारा हवन संपन्न कराया। उन्होंने कहा कि स्वर्वेद उतरार्द्ध ज्ञान महायज्ञ 13 एवं 14 मई को वाराणसी में आयोजित है। वहां 21 हजार कुंडीये वैदिक महायज्ञ का आयोजन किया गया है। इस अवसर पर स्थानीय श्रद्धालुओं के अलावा गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply