गहराता जा रहा है विवाद, आम सभा में किया गया कमेटी का गठन

हनुमान मंदिर की कमेटी को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। रविवार की शाम हनुमान मंदिर में आयोजित आम सभा में हनुमान मंदिर के पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाते हुये पुरानी कमेटी को भंग कर नई कमेटी का गठन किया गया। पुरानी कमेटी पर 16 साल से हिसाब नहीं करने का आरोप लगाया गया। नाथु प्रसाद गुप्ता को अध्यक्ष, नन्हकु पांडेय, केदार प्रसाद आर्य, भोला यादव, मुकुल ताईद, राणा प्रताप सिंह, साधु जी, सुरेश यादव को उपाध्यक्ष, भरत गोस्वामी को कोषाध्यक्ष, चंदन कुमार, कृपाशंकर, गोपाल प्रसाद सोनी उपकोषाध्यक्ष, विवेकानंद मिश्र, मुकेश मिश्रा को महामंत्री, संजय प्रसाद उर्फ चुन्नू को सचिव, उदय कांस्यकार, सोनू पांडेय, अजय पांडेय को सह सचिव, सुनील केसरी को संयोजक, सुरेश प्रसाद गुप्ता को अंकेक्षक, अमर केसरी, संतोष अमन, नीरज केसरी को मीडीया प्रभारी, चिंटू मिश्रा, संजय प्रसाद चुन्नू, टुल्लू रावत, मनीष यादव, धीरज शौण्डिक, विवेकानंद मिश्र, निगरानी समिति सदस्य, श्याम कुमार पाठक, चिंटू मेहता, विकास कांस्यकार, प्रदीप गुप्ता, विनोद कुमार, दीपक सोनी, मिंशु कुमार, प्रदीप गुप्ता, रविंद्र प्रसाद केसरी, सुमित भारती, शिव गुप्ता, सौरभ राजपूत, सुमित भारती, विनोद कुमार आदि को कार्य समिति सदस्य बनाया गया है।

असंवैधानिक है कमेटी

श्रीरामचरितमानस यज्ञ समिति के अध्यक्ष अटल बिहारी ने कहा कि अनर्गल बैठक कर कमेटी बनाई गई है। यह पूरी तरह असंवैधानिक कमेटी है। हनुमान मंदिर के अध्यक्ष अभी भी मुनीलाल प्रसाद ही हैं। हनुमान मंदिर समिति की बैठक में समिति के पदाधिकारियों एवं सदस्यों के समक्ष उनके द्वारा हिसाब दिया जाएगा। रविवार की बैठक में लिये गये निर्णयों का कोई मूल्य नहीं है। वहीं हनुमान मंदिर कमेटी से जुड़े मुन्ना कुमार ने भी रविवार की बैठक को असंवैधानिक करार दिया है। स्थापना काल से जुड़े सदस्य व उपसचिव राजाराम प्रसाद ने कहा कि बिना मतलब का विवाद उत्पन्न कर किरकिरी कराई जा रही है। जिन मुद्दों को लेकर शोर मचाया जा रहा है उसका अंत शीघ्र होगा। मिल बैठकर समस्या का समाधान होना चाहिए। जिस तरह से किया जा रहा है वह गलत है।

Leave a Reply