क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होता है मस्तिष्क ज्वर

संतोष अमन की रिपोर्ट:

आजकल हमारा समाज में अघिकांश लोग हजारों रुपये का स्मार्ट फोन खरीदते हैं, परन्तु अपने घर में 15 से 20 हजार रूपये का एक शौचालय नहीं बनवाते हैं। लोटा लेकर घर से बाहर खुले में शौच एवं गंदगी करते हैं। इससे हमारे घर समाज में दर्जनों जानलेवा व लाईलाज बिमारियां होती है। उपरोक्त बातें पाथ के प्रखंड मॉनिटर अरविन्द कुमार सिन्हा ने रफीगंज के चौधरी टोला स्थित आंगनबड़ी केन्द संख्या 224 पर आयोजित सामुदायिक बैठक में कही।
बैठक में श्री सिन्हा ने बताया कि गंदगी में मच्छर का बास होता हैं, जिससे हमारे जीवन में मलेरिया, डेंगु, चिकनगुनिया एवं मस्तिष्क ज्वर जैसी दर्जनों लाईलाज व जानलेवा बीमारी होती है। इन्हीं बिमारियों में से मस्तिष्क ज्वर सबसे ज्यादा लाईलाज व जानलेवा मस्तिष्क ज्वर है, जो क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होती है। श्री सिन्हा ने कहा कि यह बीमारी एक से पन्द्रह साल के आयुवर्ग के बच्चों के बीच होती है।उपरोक्त बीमारी से बचने के लिए लोंग़ों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता आवश्यक है। समय-समय पर अपने-अपने घर एवं घर के बाहर के अलावा नली-नालों की साफ-सफाई करना बहुत हीं जरुरी है। साथ ही साथ समय-समय पर अपने हाथों को साबुन से साफ करना बहुत हीं जरूरी है। रात में सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करना बहुत हीं जरूरी  है। बैठक में सेविका मनीता देवी एवं सहायिका सुनीता देवी सहित दर्जनों महिलाएं उपस्थित थीं।

Leave a Reply