जहां मोह करते हैं वहीं उत्पन होता है विकार

             स्वामी रामप्रपन्नाचार्य जी महाराज

संतोष अमन की रिपोर्ट:

दाउदनगर प्रखंड के अरई गांव में ज्ञान यज्ञ सह सती मां प्राण प्रतिष्ठा समारोह में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ उमड़ रही है। मंगलवार की रात प्रवचन करते हुए स्वामी रामप्रपन्नाचार्यजी महाराज ने कहा कि जहां मोह करते हैं वहीं विकार उत्पन्न होता है। जिस वस्तु से हम संबंध जोड़ते हैं वहीं से दुख की उत्पति होती है। मोह के कारण जीव अधोगति को प्राप्त कर रहा है। ऋषभदेव को हिरण के बच्चे से मोह हो गया था इसी कारण उन्हें अगले जन्म में हिरण के रूप में जन्म लेना पड़ा।

                                     संत डॉ रमेशानंद

संत डॉ रमेशानंद जी ने कहा कि वर्तमान समय में सनातन धर्म को जानने वाले और उसकी महत्ता को समझने वालों की संख्या कम है। आज ऐसे ज्ञान यज्ञ का आयोजन अधिक करने की आवश्यकता है। निशा भाऱद्वाज ने शिव पार्वती विवाह कथा प्रसंग को प्रस्तुत किया। पंडित गोपालाचारी, पं0 नारायण शर्मा, ज्ञानुजी ने भी अपने विचार रखें। पंडित धर्मदत्त ने भजन संध्या का आनंद लिया। संचालन पंडित कृष्णकांत ने किया। इस मौके पर इ0 अजय कुमार शर्मा, उपमुखिया प्रतिनिधि गोविंद शर्मा, अमरेन्द्र शर्मा, पूर्व मुखिया अनिल कुमार, अश्विनी तिवारी, विवेकानंद मिश्र, विनोद मौआर, भोला मौआर आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहें।

Leave a Reply