जनता की आवाज़ : कॉलेज में लगी वाईफाई, लेकिन पढ़ाई नही

                              आर्य अमर केशरी

दाउदनगर स्थित मगध विश्वविद्यालय के अंगीभूत दाउदनगर कॉलेज दाउदनगर, जो लगातार संघर्ष के बाद भी अपने जिद पर कायम है। इस कॉलेज के माता-पिता (शिक्षक) शायद कभी नही सोचते, कि हमारे बच्चे (छात्र-छात्रा) पढ़े। अगर इस पर मंथन कर लें, तो परिणाम शून्य नही होगी और कदाचारमुक्त परीक्षा में काफी सहायक साबित होगी। कॉलेज में शिक्षक हमेशा नदारद रहते हैं, जिससे छात्रों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। 80 % छात्रों को कॉलेज संबंधित जानकारी नहीं होती है, जिसका एक ही वजह कॉलेज में पढाई न होना है। छात्र-छात्रा सिर्फ फॉर्म भरने के वक्त और परीक्षा देने के दरम्यान ही दिखाई पड़ते हैं। आखिर इसका जिम्मेवार कौन है? कॉलेज को डिग्री की दुकान बना कर रख दिया गया है। मौजूदा कॉलेज की स्थिति यह है कि विगत कई वर्षों से छात्रावास की निर्माण आगे नही बढ़ पाई है। कॉलेज ग्राउंड की बॉउंड्री के पैसा आने के बाद भी निर्माण नही होने का जिम्मेवार कौन है? कॉलेज में एक दिन भी पढाई नही, लेकिन वाईफाई की सेवा देकर सिर्फ और सिर्फ दिखावा क्यों? वाईफाई लगे कॉलेज में कुछ ही दिन हुए, लेकिन कनेक्टेड तार असमाजिक तत्वों द्वारा काट कर चुरा लिया गया। ऐसा कर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

Leave a Reply