ओवरलोड वाहनों से भी लाये गये बच्चे


संतोष अमन की रिपोर्ट:

विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के छात्र-छात्राओं को ओवरलोडेड वाहनों से निर्धारित स्थानों तक पहुंचाया गया। बस पर खचाखच और छत के उपर बैठाकर बच्चों को उनके निर्धारित स्थान पर पहुंचाया गया। खचाखच भरे आॅटो से भी बच्चे लाये गये। जानकारी मिली कि उच्च विद्यालय एकौनी के बच्चे वाहन के अभाव में करीब 10 किलोमीटर दूर पैदल चलकर दाउदनगर पहुंचे और मानव श्रृंखला में शामिल हुये। जानकारों का कहना है कि इस तरह की त्रुटियों का सामना रूट चार्ट तैयार करने में गड़बड़ी के कारण करना पडा है। दाउदनगर शहरी क्षेत्र के विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को एनएच-98 पर रूट निर्धारित कर दिया गया। जबकि एनएच-98 से सटे विभिन्न गांवों के स्कूलों के बच्चों का रूट दाउदनगर शहर में निर्धारित कर दिया गया। इसके कारण गंतव्य स्थान तक बच्चों को पहुंचने के लिए वाहनों की आवश्यकता करनी पड़ी और ऐसी असुविधा का सामना करना पडा। कई विद्यालयों के बच्चे लंबी दूरी तय कर निर्धारित स्थान पर पहुंचे थे।

Leave a Reply