शिक्षकों का शोषण बंद हो और उन्हें सभी तय लाभ मिले- भवानी सिंह 

आज दिनांक 12 जनवरी 2017 को प्रेस वार्ता में जनअधिकार पार्टी के वरीय नेता व गया स्नातक विधान परिषद् के उम्मीदवार भवानी सिंह ने कहा कि राज्य में शिक्षकों का बहुत शोषण हुआ। अब तक सरकार सिर्फ शोषण करने में लगी है, जनगणना हो तो शिक्षक, मतगणना हो तो शिक्षक, पशु गणना हो तो शिक्षक, जब चुनाव हो तो शिक्षक सरकार के अपने हो जातें हैं और चुनाव के बाद शिक्षक सरकार के लिए पराए हो जाते हैं। सरकार सबसे ज्यादा काम शिक्षकों से लेती है मगर जब शिक्षकों के लिए जैन कुछ करने का समय आता है तो सरकार उन्हें नकार देती है। हम शिक्षकों की लडाई में शिक्षकों के साथ कंधे से कंधे मिलाकर चलने को तैयार हैं और हम सरकार से कहना चाहते हैं कि नियोजित शिक्षकों को सॉतवे वेतन का पूर्ण लाभ दिया जाए। समान काम के लिए समान वेतन दें वेतन विसंगति को सुधारा जाए शिक्षण कार्य के लिए शिक्षकों को लगाया जाए ना कि जनगणना एवं मतगणना में। 13 जनवरी को जो शिक्षकों का आक्रोश मार्च है उसमें भी हमसब उपस्थित होगें।

भवानी सिंह ने कहा कि शिक्षकों के हित में ना हि कोई विधायक ना हि विधान परिषद् आवाज उठाने का काम करते हैं और जब चुनाव आता है तो सबसे ज्यादा शिक्षकों का उपयोग करते हैं।भवानी सिंह ने प्यह भी कहा कि शिक्षकों के लिए हम शिक्षा मंत्री और राज्यपाल से मिलकर इनकी समस्याओं के निदान के लिए वार्ता करेंगे। इस प्रेस वार्ता में जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र यादव, नगर अध्यक्ष शशी सिंह, प्रदेश महासचिव विजय कुमार ऊर्फ गोलू यादव, छात्र नगर अध्यक्ष भास्कर पाण्डेय, कार्यालय सचिव रामजनम यादव, युवा शक्ति शशि भुषण यादव, युवा परिषद् जिलाध्यक्ष धिरेन्द्र सिंह, छात्र नेता संतोष कुमार आदि लोग मौजूद रहें।

Leave a Reply