एटीएम का सही से काम ना करना ग्राहकों के लिए समस्या 

दाउदनगर से पिंटू कुमार आर्या की रिपोर्ट:

शहर में तक़रीबन कुल मिलाकर 10 एटीएम केंद्र होंगे लेकिन नगरवासियों को सारे केंद्र का लाभ एक साथ नहीं मिलता। एक अद्भुत दृश्य बन जाता है कि अगर कोई केंद्र खुला है तो पैसे नहीं होते और किसी केंद्र के दरवाजे ही बंद रहते हैं। टेक्नोलॉजी के इस दौर में जिस प्रकार लोग ऐसी सुविधाओं पर आश्रित होकर अपने रोजमर्रा एवं कार्यक्रम की तैयारी करते हैं। मगर जब अपने खाते से पैसा निकालने के लिए जब सारा शहर छान मारना पड़ता है तो लोगों के समय की प्लानिंग तीतर वितर हो जाती है। जब सिर्फ इक्के दुक्के केंद्र सुचारू ढंग से ग्राहक को सेवा प्रदान करने में सक्षम होते हैं तो वहां लग जाती है लंबी लाइन। यह तस्वीर बयां करती है कि अगर आपको ऐसी स्थिति में पैसे निकालने हों तो कितना इंतज़ार करना पड़ सकता है और आपके नंबर आने तक पैसा बचे या नहीं इसकी भी कोई गारंटी नहीं होती।

पुरानी शहर के लोग तो नगरवासी कहलाते हैं मगर भरी संख्या वाले आबादी में एक भी एटीएम केंद्र मौजूद नहीं है, हर किसी को बाजार का रुख करना पड़ता है चाहे पैसे की खोज में भकरूआँ मोड़ का ही रुख क्यों न करना पड़े।

Leave a Reply