हंसपुरा: बीआरसी कार्यालय में मौजूद भ्रस्टाचार से शिक्षक नाराज़

दाउदनगर अनुमंडल के हसपुरा प्रखण्ड में BRC ऑफिस में हद भर भ्रष्टाचार फैला हुआ है जहाँ हर एक फाइल पर हस्ताक्षर  के लिए शिक्षको से पैसा वसुला जा रहा है।  यहाँ तक की शिक्षको का वेतन बिना कोई ठोस कारण के रोका जा रहा है। हाल ही में मास्टर डेटा जमा करने के लिए भी शिक्षकों से 1,000 से 2000 रूपये तक वसुला गया। उसी प्रकार की स्थिति वहां के उर्दू शिक्षकों की भी है। न जाने किस कारण उर्दू शिक्षकों का वेतन पिछले 8 माह से रोक कर रखा गया है। बीआरसी ऑफिस में दलालों का बोल बाला होने के कारण शिक्षकों की स्थिति दयनीय है और वेतन नहीं मिलने के कारण वे दुर्लभ जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

Leave a Reply