योग्य कलाकारों की उपेक्षा- चयन प्रक्रिया को दुबारा कराने की मांग

जिला प्रशासन द्वारा जिला मुख्यालय में आयोजित युवा महोत्सव के लिए दाउदनगर प्रखंड प्रशासन द्वारा कलाकारों का चयन कर लिया गया है। प्रखंड स्तरीय प्रतियोगिता के लिए चयन करने के गोपनीय तरीके पर स्थानीय कलाकारों एवं स्थानीय कला संस्थानों ने कड़ा विरोध जताया है।
प्रबुद्ध भारती के निदेशक मास्टर भोलू का कहना है कि उनकी संस्था विगत सात वर्षों से कला एवं संस्कृति के लिए अनवरत समर्पित, कार्यरत एवं सेवारत हैं। हमारी टीम विगत वर्ष से राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय स्तरीय प्रतियोगिताओं में विजेता रही है, दाउदनगर का मान बढ़ाया है। लेकिन युवा महोत्सव के आयोजन की कोइ सूचना नहीं मिली। आज हमारी कला टीम अपने घर में ही उपेक्षित है।

टीम के लोक कलाकार संजय तेजस्वी ने बताया की अनुमंडल प्रशासन द्वारा स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्रता दिवस के संस्कृति कार्यक्रमों में भागीदारी के लिए सूचना पत्र द्वारा या मौखिक मिलती है पर युवा महोत्सव की कोई सूचना नहीं मिली।
अंतराष्ट्रीय और राष्ट्रीय विजेता कला संस्थान अपने ही घर में उपेक्षित।
लोक गायक अंजन सिंह ने भी रोष व्यक्त करते हुए कहा की प्रखंड स्तर पर युवा महोत्सव की सूचना न समाचार पत्र में आयी और न अन्य माध्यम से। चयन टीम ने निजी लोगो का ही जिला स्तरीय युवा महोत्सव में गोपनीय तरीके से चयन किया है।इसकी लिखित शिकायत हम सभी कलाकार जिला पदाधिकारी औरंगाबाद को करेंगे। कलाकारों का शोषण बर्दास्त नहीं करेंगे।

लोक गायक संदीप सिंह का कहना है दाउदनगर कलाकारों का शहर है लोक कला जिउतिया संस्कृति से दाउदनगर की पहचान विश्व स्तर पर है, लेकिन हम कलाकार अपने ही घर में उपेक्षित है। दाउदनगर के स्थानीय कलाकार रवि कुमार रवि, गोविंदा राज, संकेत सिंह, पप्पू कुमार, संतोष अमन एवं अन्य कलाकारों ने पुनः दाउदनगर में प्रखंड प्रशासन द्वारा प्रखंड स्तर पर प्रतियोगिता कराने की मांग की है।

One comment on “योग्य कलाकारों की उपेक्षा- चयन प्रक्रिया को दुबारा कराने की मांग
  1. santosh aman says:

    दाउदनगर के कलाकार हमेशा दाउदनगर का नाम बढ़ाया है ।

Leave a Reply