डंके की चोट पर जारी रहा मुहर्रम का शांतिपूर्ण जुलुस

दाउदनगर: मुहर्रम के मौक़े पर आज इस महीने की दस तारीख को शहर में मुस्लिम भाइयों ने शांतिपूर्वक अपना जुलुस निकाला। दशहरा और मुहर्रम के लिए दाउदनगर थाना परिसर में शान्ति समिति की बैठक हुई थी जिसमें दोनों पक्षों की आपसी रज़ामंदी के बाद मुहर्रम के जुलुस के लिए आज के दिन के लिए इज़ाज़त मिली थी। वहीँ दशहरा के विसर्जन के लिए कल का दिन तय किया गया था जिसके अनुसार हिन्दू भाइयों ने शान्ति समिति की बात को रख कर कल ही विसर्जन किया। मुस्लिम भाइयों ने भी क़दम से क़दम मिला कर पूरा सहयोग किया और मुहर्रम का आज पहला जुलुस निकला।

हर बार की तरह इस बार भी सबसे पहले सरकारी चौक का ताज़िये के साथ जुलुस निकला फिर बाजार और बाक़ी चौक का जुलुस निकला। जुलुस में खिलाडियों ने अपना करतब दिखाया, अपने खेल और हुनर से लोगों को अचंभित कर दिया। दाउदनगर के क्षेत्रीय चौक का ताज़िये के साथ जुलुस तक़रीबन शाम 7 बजे तक दाउदनगर के विभिन्न स्थानों पे गोल की शक्ल में देखने को मिला। मुख्य रूप से मुहर्रम के लिए जो मान्यता प्राप्त जगहें जहाँ गोल जमता है तथा खिलाड़ी अपना करतब दिखाते हैं उसमें बाजार का हनुमान मंदिर के पास का चौक,  पुरानी शहर पीपल के पास का चौक तथा दाउदनगर का किला ख़ास तौर पर प्रसिद्ध हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों के ताज़िये का आज पहलाम हुआ जबकि शहरी क्षेत्र के ताज़िये का पहलाम कल

शान्ति और धैर्य के साथ हर चौक का जुलुस निकला जिसके लिए दाउदनगर का प्रशाषन धयावाद के पात्र हैं। प्रशाषन का लोगों के साथ अच्छा ताल मेल रहा जिसके कारण किसी भी असामाजिक तत्व को शांतिपूर्ण माहौल बिगाड़ने में सफलता प्राप्त नहीं हुई। दाउदनगर वासियों ने अपनी आपसी मुहब्बत बनाये रखने के लिए एक अच्छी पहल की है जिसका नतीजा दशहरा और मुहर्रम में देखने को मिली।

Leave a Reply